दिखावे में है दुर्लभ साजो-सामान का ख़जाना, उल्कापिंड बना आकर्षण का केंद्र

Published:


विजय राठौर

बहाना. क्या आप जानना चाहते हैं कि आकाश से दिखने वाले तारे वास्तव में कैसे दिखते हैं। साथ ही महारानी लक्ष्मीबाई युद्ध के मैदान में किन्हीं कमजोर से लड़ती थीं। अगर आप भी इन सभी चीजों से रूबरू होना चाहते हैं तो आपको मध्य प्रदेश के नगर निगम संग्रहालय में आना होगा। यहां कई ऐसी दुर्लभ चीजें देखने को मिली जिनके विषय में आपने कभी नहीं सोचा होगा। अजनबी नगर निगम संग्रहालय की कहानी बड़ी दिलचस्प है।

बताया जाता है कि यह ऐसा संग्रहालय है जिसका नाम तीन बार बदला जा चुका है। वर्ष 1902 में जब यह संग्रहालय बना था तब इसे राजकीय स्मारक के नाम से जाना जाता था। बाद में वर्ष 1922 में इसका नगर निगम का सुपुर्द कर दिया गया, तब इसका नाम विचित्रा के नाम से जाना जाने लगा। फिर सन 1980 में इसका नाम संग्रहालय रखा गया। इसके बाद यहां कुछ ऐसी दुर्लभ वस्तुओं को रखा गया है, जिनके बारे में आमजन के लिए सोच बड़ी बात है।

आपके शहर से (ग्वालियर)

मध्य प्रदेश

मध्य प्रदेश

यहां मौजूद है आकाश से गिरा तारामंडल तारा का टुकड़ा

अज्ञान नगर संग्रहालय में सबसे अधिक आकर्षण का केंद्र है तारामंडल का टुकड़ा। इसे उल्कापिंड भी कहते हैं। यह 30 मार्च, 1943 को भिंड जिले के गरोली गांव के पास तेज आवाज व वेग के साथ गिरा था। यह जमीन के अंदर फुट फुट तक नीचे चला गया था। इसके बाद में आक्षेप किया गया था।

इन कमजोर से लड़ती थीं महारानी लक्ष्मीबाई

इसके अलावा, इस संग्रहालय में रानी लक्ष्मीबाई के हथियार जिन्हें वो लड़ाई के दौरान प्रयोग करती थी, यहां मौजूद हैं। इसमें उनकी तलवार, कृपाण, कोटर, भाला, ढाल सहित अन्य हथियार मौजूद हैं। इतना ही नहीं, स्टेट टाइम के हथियार इनमें से छोटे तोप, लंबी नालदार बंदूकें, लकड़ी के तीर आदि सहित लगभग सैकड़ों श्रेणियों को भी यहां देखा जा सकता है।

खाने में जहर का पता लगने से यह निशान बन जाते हैं

वहीं, नगर निगम के संग्रहालय में एक ऐसा फोटो मौजूद है, जिसमें खाना खाते से पता लग जाता है कि यह खाना जहरीला है तो नहीं। संग्रहालय का निगरानी करने वाले डॉक्टर प्रवेश शर्मा ने बताया कि इस धब्बे में खाना होता ही यदि जहर होता है तो निशान अपना रंग बदल देता है। इसके अलावा, यहां पर स्टेट टाइम के सिक्के, सिंहासन हस्तलिखित महाभारत सहित अन्य पुस्तकें भी मौजूद हैं जो लोगों को आकर्षित करती हैं।

टैग: ग्वालियर न्यूज, ग्वालियर संग्रहालय में झांसी की रानी की तलवार, एमपी न्यूज, संग्रहालय भंडारण



Source link

Related articles

Recent articles